46 Views

छह क्विंटल मिलावटी मावा नष्टकर यूनिट की सीज, आरोपित पर केस

कलछीना गांव में रिफाइंड, यूरिया व मिल्क पाउडर से तैयार किया जा रहा था मावा

रिपोर्ट- चौधरी अफसर

गाजियाबाद (अहमसत्ता) मोदीनगर के गांव कलछीना में तैयार किया जा रहा छह क्विंटल मिलावटी मावा पुलिस प्रशासनिक टीम ने रविवार को नष्ट कर दिया। जिस यूनिट में मावा बनाया जा रहा था, उसे भी सील किया गया है। पुलिस के मुताबिक, मावा बनाने में यूरिया, रिफाइंड व मिल्क पाउडर का इस्तेमाल किया गया। आरोपित दुकानदार के खिलाफ भोजपुर थाने में केस दर्ज किया गया है।

होली के मद्देनजर पुलिस प्रशासन स्तर पर सक्रियता बरती जा रही है। चूंकि त्योहार पर मावे की खपत बढ़ जाती है। ऐसे में बड़े स्तर पर मिलावटखोरी शुरू हो जाती है। ऐसी ही मिलावटखोरी भोजपुर के गांव कलछीना में महबूब के यहां चल रही थी। आरोपित ने मावा की खपत पूरी करने के लिए मिलावट शुरू की। यूरिया, रिफाइंड व मिल्क पाउडर से मावा बनाने लगा। मावे के रूप में लोगों को जहर परोसे जाने लगा। केवल ग़ाज़ियाबाद ही नहीं बल्कि दिल्ली के मोरी गेट तक आरोपित मावे की सप्लाई कर रहा था। पुलिस प्रशासनिक व खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने यहां रविवार शाम को छापेमारी की तो इससे पर्दा हटा। आरोपित ने घर के पास ही मावा बनाने की यूनिट लगा रखी थी। टीम ने जब छापेमारी की तो वह घबरा गया। प्राथमिक जांच में ही मावा में मिलावटखोरी सामने आई। पुलिस ने तत्काल यूनिट को सीज कर दिया। आरोपित के पास मावा बनाने का कोई लाइसेंस भी नहीं था। एसीपी मोदीनगर ज्ञान प्रकाश राय ने बताया कि कलछीना चौकी प्रभारी धर्मेंद्र सिंह की तरफ से आरोपित महबूब व उसके साथियों के खिलाफ संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया गया है। महबूब हिरासत में है। उसकी यूनिट भी सील कर दी गई है। इसके अलावा भी चार जगह अासिफ, रहमत, सिदाकत, परवेज के यहां छापेमारी हुई। जहां से सैंपल जांच को भेजे गए हैं।

सोया रहा खाद्य सुरक्षा विभाग या थी साठगांठ

मितावटी मावा यहां काफी समय से तैयार कियाजा रहा था। लेकिन खाद्य सुरक्षा विभाग ने कार्रवाई की जरूरत नहीं समझी। इसमें यह कहना गलत नहीं होगा कि अधिकारियों की साठगांठ थी। अब जब उच्चाधिकारियों का दवाब पड़ा तो उन्हें कार्रवाई करनी पड़ी। कलछीना में मावा लंबे समय से तैयार किया जा रहा है। लेकिन त्योहार के आसपास ही यहां छापेमारी की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *