126 Views

रिपोर्ट- आरिफ कस्सार

पिलखुवा (अहम सत्ता) मोनाड विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ फार्मेसी के विद्यार्थियों ने पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, हरिद्वार में औद्योगिक भ्रमण किया जिसमें पचास से अधिक छात्र एवं छात्राओं ने प्रतिभाग किया।विद्यार्थियों का पतंजलि के स्टाफ सदस्यों द्वारा गर्मजोशी से स्वागत किया गया और संगठन की स्थापना और इसके कामकाज के बारे में जानकारी दी गई। विद्यार्थियों ने केंद्रीय प्रयोगशाला सहित विभिन्न ब्लॉकों का दौरा किया, जहां विद्यार्थियों ने गुणवत्ता नियंत्रण और जांच तकनीक सीखी। उत्पादों के परीक्षण के लिए पतंजलि प्रयोगशाला में उपयोग की जाने वाली विभिन्न तकनीकों और उपकरणों के बारे में सीखा।

विभिन्न हर्बल कॉस्मेटिक उत्पादों के कच्चे माल और थोक स्तर पर मशीन पर चलने वाली पैकेजिंग के बारे में सीखा और देखा। पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के अनुभाग के दौरे के बाद, जहां छात्रों ने गर्मी, भाप प्रक्रिया, भस्म, हर्बल कॉस्मेटिक यूनिट आदि द्वारा निष्कर्षण को देखा और सीखा। हर्बल दवाओं में स्टार्टअप के लिए नए विचारों की खोज के लिए औद्योगिक भ्रमण महत्वपूर्ण रहा।इस भ्रमण का उद्देश्य विद्यार्थियों को थोक स्तर पर उद्योग में उपयोग की जाने वाली विभिन्न तकनीकों, उपकरणों,उपकरणों से परिचित कराना था साथ ही साथ विद्यार्थी उद्योग की विशिष्ट कार्यप्रणाली सीखने और ज्ञान प्राप्त कराना मुख्य उद्देश्य रहा।औधोगिक भ्रमण का आयोजन विश्वविद्यालय के प्रतिकुलाधिपति डॉ एनके सिंह, कुलपति डॉ मोहम्मद जावेद, कुलसचिव कर्नल प्रो. डॉ डीपी सिंह, उपकुलपति (प्रशासनिक) प्रो. योगेश पाल सिंह, उपकुलपति (अकादमिक) डॉ. जयदीप कुमार एवं उपकुलपति (एडमिशन) रोहित शर्मा द्वारा प्रबंधित किया गया। इस मौके पर उपकुलपति (अकादमिक) डॉ. जयदीप कुमार ने कहा विद्यार्थी बेहतर प्रबंधन कौशल,नेतृत्व कौशल, टीम भावना और रवैया विकसित करने में शैक्षणिक गतिविधि में औधोगिक भ्रमण महत्वपूर्ण होता है।इस मौके पर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ मोहम्मद जावेद ने कहा कि मोनाड विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को व्यावहारिक एवं शैक्षिक ज्ञान प्रदान करने के लिए शैक्षिक भ्रमण कराता है, जिससे विद्यार्थी अपने पाठ्य-विषय के साथ-साथ व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त करें। उन्होंने आयोजकों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए छात्र-छात्राओं के उज्जवल भविष्य की कामना की।

 

शैक्षिक भ्रमण में फार्मेसी विभाग के शिक्षकों शिप्रा त्यागी, आकांक्षा चौहान, प्रवेश कुमार एवं भानु प्रताप का समन्वयक के रूप में विशेष योगदान रहा।

इस अवसर पर विoविo के शोध निदेशक डॉ. अनुज कुमार शर्मा, अनिल कुमार के साथ फार्मेसी विभाग के समस्त शिक्षकगण, विश्वविद्यालय के मीडिया प्रभारी विपुल चौधरी एवं डॉ गणेश शंकर आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *